Jaisalmer: 1991 में आई संजय दत्त (Sanjay Dutt) की फ़िल्म ‘सड़क’ का गीत रहने को घर नहीं, सोने को बिस्तर नहीं… इनका खुदा ही रखवाला… कहीं न कहीं जैसलमेर (Jaisalmer) में घूम रहे सैकड़ों भिक्षुकों पर खरा उतरता है. यहां के भिक्षुक पेट की आग के चलते इतने मजबूर हैं कि उन्हें कोरोना का कोई भय नहीं है. न तो वे मास्क पहनते हैं, न ही सेनेटाइजर का उपयोग करते हैं. 

यह भी पढे़ं- Remdesivir चुराकर मरीजों को डिस्टिल वाटर के इंजेक्शन लगाता था नर्सिंगकर्मी, हुआ Arrest

कोरोना को लेकर दुनिया भर में रिसर्च चल रही है परन्तु अब तक इसकी पूर्णतः रोकथाम के लिए निष्कर्ष निकल कर सामने नहीं आया है. मास्क, सेनेटाइजर, डिस्टेंस, टीकाकरण के साथ ही अन्य सावधानियां बरतना ही इसका उपाय बताया जा रहा है.

यह भी पढे़ं- Jaisalmer: Covid-19 के चलते पर्यटन व्यवसाय हुआ लॉक, टूटी 1200 करोड़ की आमदनी की आस

जैसलमेर (Jaisalmer) जिले में कोरोना के प्रति जन जागरूकता अभियान के नाम पर करोड़ों रुपये खर्च किए जा रहे हैं. जिले में भी कोरोना का आंकड़ा दिनों-दिन आसमां छू रहा है, ऐसे भयमय वातावरण में भी इन भिक्षुकों की तरफ जिला प्रशासन की ओर से किसी का भी ध्यान नहीं जा रहा है. 

चौराहों पर नजर आते हैं भिक्षुक
शहर के गड़ीसर चौराहा, एयरफोर्स चौराहा और हनुमान चौराहा के साथ-साथ कई मुख्य स्थानों पर यह भिक्षुक रात-दिन टकटकी लगाए भोजन की आस में राह ताकते रहते हैं. कोरोना से पहले जिले में इनको यहां के रहवासियों द्वारा कुछ न कुछ मिल जाता था, जिससे ये अपनी पेट की आग शांत कर देते थे लेकिन कोरोना के कहर के चलते इनकी दशा बड़ी ही दयनीय होती जा रही है.

पेट की आग ने मिटाया कोरोना का डर
भिक्षुकों का कहना है कि कोरोना के चलते लोगों का आवागमन भी बंद हो गया है. रैनबसेरों में मिलने वाला भोजन भी अब उन्हें नहीं मिल रहा है, जिससे उनकी स्थिति बड़ी ही दयनीय होती जा रही है. वहीं, कोरोना जागरूकता को लेकर के संचालित सामाजिक संस्थाओं द्वारा भी इन किस्मत के मारे भिक्षुकों की कोई देख-रेख नहीं हो रही है

हालातों के साथ ही प्रशासन ने भी फेरी निगाहें
शहर के मुख्य चौराहे जो इन भिक्षुकों के आशियाने बने हुए हैं. इन मुख्य मार्गों से शहर के कई जनप्रतिनिधियों, आलाधिकारियों, सामाजिक कार्यकर्ताओं का आना-जाना होता है लेकिन इन भिक्षुकओं की तरफ किसी का भी ध्यान नहीं जा रहा है. यदि इन भिक्षुकों के भोजन और रहन-सहन की व्यवस्था जिला प्रशासन और सामाजिक संस्थाओं द्वारा की जाए तो कोरोना रोकथाम में ये सराहनीय कदम हो सकता है.

अब इनकी भी सुध ले प्रशासन
कोरोना के चलते हम सम्भावनाओं को नहीं ठुकरा सकते हैं. बिना मास्क व बिना सेनेटाइजर के चौराहों पर डेरा डाले ये भिक्षुक कोरोना को न्योता देने में भी अपनी भूमिका निभा रहे हैं. इसलिए अब प्रशासन और सरकार को चाहिए कि वह एक नीति बनाकर इन भिक्षुकों के लिए कुछ करे. इनका पुनर्वास करवाने के प्रयास करें ताकि ये भिक्षुक भी अपने जीवनयापन के साथ ही अपने जीवन की रक्षा भी कर सकें.

Reporter- Shankar Dan