News in Brief

चंडीगढ़: पंजाब पुलिस (Punjab Police) ने होशियारपुर में हुई एक महिला की हत्या की गुत्थी 17 दिनों में ही सुलझा दी है. पुलिस ने महिला के छोटे भाई और उसके दोस्त को गिरफ्तार किया है. पुलिस के अनुसार भाई ने ही अपने दोस्त के साथ मिलकर अपनी बहन की हत्या कर दी थी.

बहन के सीने में उतार दी थी 9 गोलियां

पुलिस के अनुसार, 21 अप्रैल को होशियारपुर के सीकरी में मनप्रीत कौर नाम की महिला की हत्या कर दी गई थी. इस सनसनीखेज कत्ल की गुत्थी सुलझाते हुए पुलिस ने मनप्रीत कौर के छोटे भाई और उसके एक दोस्त को गिरफ्तार किया है, जिसने अपनी बहन के सीने में 9 गोलियां मारकर हत्या कर दी थी.

पुलिस ने जब्त की बंदूक और 3 गाड़ियां

मामले की जानकारी देते हुए एसएसपी नवजोत सिंह माहल ने बताया कि हरप्रीत ने 21 अप्रैल को अपनी बहन की हत्या के बाद शव को सिकरी बस स्टैंड के पास खेत में फेंक दिया. 22 अप्रैल की सुबह जब लोग खेतों में काम के लिए पहुंचे, तब हत्या का खुलासा हुआ. इसके बाद पुलिस ने मामले की जांच शुरू की और आरोपियों को गिरफ्तार किया. होशियारपुर पुलिस ने घटना को अंजाम देने में इस्तेमाल किए गए बंदूक और 3 गाड़ियों को भी जब्त किया है.

ये भी पढ़ें- पति से रूठना पत्नी को पड़ा भारी, युवक ने मौत को लगाया गले, कहा-फिर मिलेंगे

मनप्रीत ने परिवार की मर्जी के खिलाफ की थी शादी

घटना की जानकारी देते हुए पुलिस ने बताया कि करीब 8 साल पहले मनप्रीत कौर ने 8 साल पहले परिवार की मर्जी के खिलाफ जाकर होशियारपुर के खडियाला गांव के रहने वाले पवनदीप सिंह से शादी कर ली थी. हालांकि यह शादी लंबे समय तक नहीं चली और अनबन के बाद कोर्ट में तलाक का केस चल रहा था.

पुलिस ने हत्या के कारणों का किया खुलासा

एसएसपी नवजोत सिंह ने हत्या के कारणों का खुलासा करते हुए बताया कि पति से विवाद के बाद मनप्रीत कौर अपने मायके लौटना चाहती थी, लेकिन छोटे भाई हरप्रीत को यह मंजूर नहीं था. उसे परिवार की बदनामी और बहने के हिस्से की जमीन पर कब्जे का डर था. इसके बाद उसने अपने दोस्त इकबाल सिंह के साथ मिलकर हत्या की साजिश रच दी.

आरोपियों ने ऐसे दिया हत्या को अंजाम

पुलिस ने बताया कि हत्या वाले दिन हरप्रीत और इकबाल सिंह गाड़ी से घटनास्थल पर पहुंचे. इस दौरान इकबाल गाड़ी चला रहा था, जबकि हरप्रीत पीछे वाली सीट पर छिपा हुआ था. दोनों ने पहले एक राहगीर का मोबाइल छीना और फिर इकबाल ने मनप्रीत को व्हाट्सऐप कॉल कर मिलने के लिए बुलाया. जब मनप्रीत वहां पहुंची, तब इकबाल ने जरूरी बात करने का बहाना बनाकर पिछली सीट पर बैठने के लिए कहा. इसके बाद हरप्रीत ने साफे से मनप्रीत का गला घोंट दिया, जिससे वह बेहोश हो गई. इसके बाद उन्होंने मनप्रीत को गाड़ी से बाहर निकाला और 32 बोर के रिवॉल्वर से 9 गोलियां मारी जिससे मौके पर ही उसकी मौत हो गई.

लाइव टीवी