भोपाल: मध्यप्रदेश में तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के बीच सीएम शिवराज का आम लोगों के  मुफ्त इलाज की घोषणा के बाद विपक्ष हमलावर हो चुका है. पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने शिवराज सरकार पर जमकर निशाना साधा है. कमलनाथ ने कहा, ”जो निर्णय मेरी सरकार ने 14 महीने पहले लिया था, उसे लागू करने में शिवराज सरकार ने पूरे 14 महीने लगा दिए और आज उसकी घोषणा कर जनता को गुमराह किया जा रहा है. नाथ का कहना है कि सरकार झूठा श्रेय लेने की कोशिश कर रही है. 

नाथ का कहना है कि यदि यह निर्णय 14 महीने पहले ही लागू कर दिया जाता तो आज तक प्रदेश के लाखों लोगों को इसका फायदा मिल सकता था. साथ ही उन्होंने कहा कि इसके लिये सीएम शिवराज को प्रदेश की जनता से माफी मांगनी चाहिये.

ये भी पढ़ें-मध्य प्रदेश में 17 मई तक लॉकडाउन का ऐलान, CM बोले- विवाह, शादी अभी न करें

कमलनाथ ने बताया पिछले साल ही लिया गया था निर्णय
मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने आज जारी अपने बयान में बताया कि उनकी सरकार द्वारा कोरोना की महामारी के संक्रमण की शुरुआत को ही देखते हुए मार्च 2020 में ही आयुष्मान कार्ड से कोविड के मुफ्त इलाज का निर्णय लिया था. इसको लेकर आदेश भी जारी कर दिया गया था. लेकिन बड़े शर्म की बात है कि शिवराज सरकार विगत 14 महीने से हमारी सरकार द्वारा लिए गए इस महत्वपूर्ण जनहितैषी निर्णय को आज तक लागू नहीं कर पाई.

ये भी पढ़ें-सीएम शिवराज का बड़ा ऐलान, MP में कोरोना का होगा मुफ्त इलाज, जानें कब से लागू होगी योजना

शिवराज कर रहे झूठी घोषणा: कमलनाथ
कमलनाथ का कहना है कि मुख्यमंत्री शिवराज बढ़-चढ़कर आयुष्मान भारत योजना से लोगों के इलाज की झूठी घोषणा कर रहे हैं , इसको लेकर 250 निजी अस्पतालों से करार की बात कर रहे हैं , श्रेय की झूठी राजनीति कर रहे है. शिवराज जनता को गुमराह कर रहे है. कमलनाथ का आरोप है कि शिवराज सरकार की देरी के कारण इन 14 महीनों में हजारों गरीब-जरूरतमंद, हितग्राही अस्पतालों में लूटते रहे. 

आपको बता दें कि गुरुवार को सीएम शिवराज ने प्रदेश में कोरोना मरीजों के निःशुल्क इलाज के लिए नई योजना लागू करने का ऐलान किया. जिसके लिए सरकार अपने खजाने से पैसा देगी. कल से यह योजना लागू होगी. इस योजना के संचालन के लिए आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत हम पैकेज देंगे.