नई दिल्ली: बचपन से आज तक हमने कई बार Calculator का प्रयोग किया है. स्कूल में मैथ के फॉर्मुला सॉल्व करने के लिए, तो इंटरमीडिएट और इंजीनियरिंग में साइंटिफिक कैलकुलेटर की मदद से भारी-भरकम सवालों का हल निकालने के लिए. घर के ही हिसाब-किताब करने के लिए, तो कभी सैलेरी और अकाउंट में बचे पैसों का जोड़ करने के लिए हम हमेशा ही कैलकुलेटर यूज करते हैं. पहले तो अलग से डिवाइस लेते थे, लेकिन अब तो फोन में ही ये काम हो जाते हैं. हालांकि, हममें से 90% लोगों को नहीं पता होगा कि कैलकुलेटर पर दिए हर बटन का मतलब क्या है. अब अदाहरण के तौर पर m+, m-,mr और mc ही ले लीजिए. इन चारों का न किसी ने इस्तेमाल किया, न जानने की कोशिश कि ये हैं किस काम के… आइए आज हम आपको बताते हैं इनका क्या मतलब है. 

99% लोग गलत तरीके से धोते हैं जींस, आप भी इन्हीं में शामिल हैं तो यहां जान ले सही तरीका

m+, m-,mr और mc बटन का क्या यूज है आपको शायद न पता हो. अब जाहिर सी बात है इन चार बटनों को बिना किसी काम के तो रखा नहीं गया होगा. लेकिन इनके महत्व भी कभी बताए नहीं गए. ऐसा क्यों? जानते हैं इनका मतलब…

Shocking Video: ऐसे Daring हैं ये ट्रक चालक, खाई के पास जान पर खेल कर करते हैं ड्राइव

क्या होता है m+ बटन?
आपकी नॉलेज के लिए बता दें कि m+ का असली नाम ‘मेमोरी प्लस’ है. इसका मेन काम है कैलकुलेशन को मेमोरी में जोड़ते जाना. यानी 2 अलग-अलग अंको को मल्टीप्लाई कर के उनका कंबाइंड रिजल्ट निकालना. 

आसान भाषा में समझिए: मान लीजिए आपके पास 10 रुपये के 5 नोट हैं और 20 रुपये के 5. अब आपके पास टोटल कितने रुपये हैं? इसके लिए पहले आप 10X5 करेंगे और फिर 20X5. फिर दोनों रिजल्ट को एड कर देंगे. 

10X5= 50
20X5= 100
(10X5)+(20X5)= 50+100

अब इसको कैलकुलेटर पर जोड़ने के लिए सबसे पहले 10 को 5 से मल्टीप्लाई करेंगे और फिर m+ दबा देंगे. m+ दबाने से इसका रिजल्ट सेव हो जाएगा. 
अब 20 को 5 से मल्टीप्लाई करेंगे और फिर m+ दबा देंगे. अब हमारे दोनों कैलकुलेशन सेव हो चुके हैं. 

Fun Fact: कंप्यूटर पर काम करने के लिए Mouse का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन इसे ‘चूहा’ नाम क्यों दिया गया?

अब काम आता है mr बटन
अब दोनों का रिजल्ट जानने के लिए हम mr बटन दबाते हैं. mr बटन का मतलब होता है ‘मेमोरी रिकॉल’, जो रिजल्ट्स को जानने के लिए इस्तेमाल किया जाता है.

Whatsapp ने आपको 17 तरह के दिल दिए हैं, सबका होता है अलग मतलब, जानते हैं आप?

क्या होता है m- बटन?
आपको बता दें, इसे ‘मेमोरी माइनस’ नाम दिया गया है. इसका काम है कैलकुलेश को मेमोरी से माइनस करना. यह m+ के उलट काम करता है. यानी दो अलग-अलग नंबर्स को मल्टीप्लाई कर उसे कैलकुलेशन से घटाता है. 

आसान भाषा में समझिए: आपके पास 10 रुपये के 5 नोट हैं और 20 रुपये के 5 नोट हैं. अब हमें इन दोनों को मल्टीप्लाई कर माइनस करेंगे. यानी
20X5= 100
10X5= 50
(20X5)-(10X5)= 100-50

सबसे पहले हम 120 को 5 से मल्टीप्लाई करेंगे और m- दबा देंगे. इसके बाद हम 10 को 5 से मल्टीप्लाई करेंगे और परिणाम पाने के लिए mr दबा देंगे. हमें आंसर मिल जाएगा.

ऐसे रख सकेंगे आधार कार्ड को हमेशा पास, बस फोन में कर लें ये काम  

mc का क्या है इस्तेमाल?
ध्यान रहे, कैलकुलेशन पूरी करने के बाद mc बटन जरूर दबाएं. वरना अगली कैलकुलेशन के रिजल्ट गलत हो सकते हैं. mc को  ‘मेमोरी क्लियर’ कहा जाता है. यानी अभी तक की सारी कैलकुलेश इस बटन से क्लियर हो जाती हैं. 

WATCH LIVE TV