Ranchi: कोरोना महामारी के बीच गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संकट के इस घड़ी में कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों से फोन पर बात की. इन्हीं में झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन भी शामिल थे. लेकिन, इस बातचीत के बाद हेमंत सोरेन ने ट्वीट कर जो कहा उससे सोशल मीडिया पर हो हंगामा मचने लगा. दरअसल, झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने ट्वीट कर लिखा, ‘आज आदरणीय प्रधानमंत्री जी ने फोन किया. उन्होंने सिर्फ अपने मन की बात की. बेहतर होता यदि वो काम की बात करते और सुनते.’

सीएम हेमंत सोरेन के इस ट्वीट पर रीट्वीट करके बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने कहा कि प्रधानमंत्री जी मेरे मुख्यमंत्री जी को केवल अपना भ्रष्टाचार, बालू, कोयला, बलात्कार का आरोप अपने प्रतिनिधि पर हत्या का आरोप ही काम लगता है. वैसे भी शाम में इनको कुछ याद नहीं रहता है.

इसके अलावा, एक अन्य ट्वीट में सांसद निशिकांत ने कहा कि अपने पूरे जीवन काल में मैंने इतना घटिया मानसिकता का मुख्यमंत्री नहीं देखा, जिसको प्रधानमंत्री जी पर भी इतनी हल्की बात बोलने पर शर्म नहीं आती. प्रधानमंत्री जी ने लोगों का हाल पूछा, आप हाल पूछने के लिए प्रधानमंत्री जी पर नीच कमेंट करते हो. अपनी नहीं पद की मर्यादा का सम्मान सीखिए.
 
इसके अलावा, सीएम हेमंत सोरेन के ट्वीट पर केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने भी ट्वीट कर पलटवार किया है. उन्होंने कहा कि  पीएम ने तो आपको फोन किया कि कोरोना से कैसे लड़ा जाए और भारत सरकार सबके साथ है. आपने आभार व्यक्त करने के बजाय उनकी आलोचना की, आपने अपने सीएम पद की गरिमा गिरा दी.

इस तरह सीएम पर हो रहे बयानबाजी के बाद इस मामले में सरकार की तरफ से मोर्चा संभालते हुए  झारखंड सरकार के मंत्री मिथलेश ठाकुर ने भी बयान दिया है. उन्होंने कहा कि सीएम हेमंत सोरेन की पीड़ा पूरी तरह जायज ,सिर्फ ये लोग आई वाश का काम कर रहे हैं. क्या गलत कहा हमारे सीएम ने हमारी भी पीड़ा को सुन लेते. राज्य के मंत्री ने कहा कि केंद्र की सरकार का क्या रवैया है झारखंड के साथ यह जनता देख रही है.

उन्होंने केंद्र पर सवाल उठाते हुए कहा कि आज जो स्थिति राज्य की है केंद्र का क्या सहयोग है? सीएम हेमंत सोरेन भी राज्य का प्रतिनिधित्व करते हैं कुछ भी गलत नहीं कहा है. अगर हम अपने अभिभावक को कहते हैं ,हमारी भी व्यथा सुनें सिर्फ उपदेश न दें तो क्या गलत है.

वहीं इस मामले में झारखंड बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश ने कहा कि स्तर विहीन सीएम, स्तर विहीन बयान. पीएम ने राज्य की जनता का हाल जानने के लिए फोन किया पर मुख्यमंत्री का इसपर शर्मनाक बयान है.