News in Brief

आजमगढ़: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के आजमगढ़ (Azamgarh) से एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है. दरअसल यहां एक महिला का शव स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही की वजह से चार दिन तक हॉस्पिटल की मोर्चरी (Mortuary) में सड़ता रहा. शव का अधिकांश हिस्सा चूहों और चींटियों ने खा लिया.

अस्पताल की बड़ी लापरवाही आई सामने

बता दें कि शव के सड़ने की वजह से चारों ओर दुर्गंध फैल गई और मामले का खुलासा हुआ. अब लोग अस्पताल की कार्यशैली पर सवाल उठा रहे हैं कि कैसे मोर्चरी में 4 दिन तक एक शव को चींटियां और चूहे खाते रहे लेकिन किसी को इसकी खबर तक नहीं लगी.

ये भी पढ़ें- ऑक्सीजन की कमी होने पर घबराएं नहीं, घर पर सिलेंडर पहुंचाएगी सरकार; ऐसे करें रजिस्ट्रेशन

उस दिन क्या हुआ था?

आजमगढ़ सदर अस्पताल के रिकॉर्ड के मुताबिक, बीते 29 अप्रैल की शाम को बिलरियागंज में सड़क पर घायल अवस्था में एक महिला मिली थी. 32 साल की अज्ञात महिला को 108 नंबर की एंबुलेंस के कर्मचारियों ने शाम पांच बजे अस्पताल में भर्ती करवाया. अगले दिन 30 अप्रैल की सुबह उसकी मौत हो गई तो कर्मचारियों ने शव मोर्चरी में रखवा दिया. साथ ही शव की शिनाख्त और पोस्टमार्टम की प्रक्रिया के लिए पुलिस को खबर कर दी.

लापरवाही पर सीएमओ ने क्या कहा?

इस मामले पर सीएमओ आजमगढ़ का कहना है कि 3 दिन पहले एक लावारिस लाश पोस्टमार्टम हाउस में रखी गई थी. 72 घंटे ऑब्जर्वेशन में रखने के बाद आज उसका पोस्टमार्टम करवाया जा रहा है.

ये भी पढ़ें- भारत में कब आएगा कोरोना वायरस की दूसरी लहर का पीक? वैज्ञानिकों ने बताई तारीख

जान लें कि उत्तर प्रदेश में कोरोना का प्रकोप लगातार बढ़ता जा रहा है. बीते 24 घंटे में कोरोना के 31,165 नए केस सामने आए हैं, वहीं 357 मरीजों की मौत की हुई है. कोरोना मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी के साथ ही उत्तर प्रदेश में एक्टिव केस की संख्या बढ़कर 2,62,474 पर पहुंच गई है.

यूपी स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, राजधानी लखनऊ समेत राज्य के कई जिलों से कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी दर्ज की गई है. पिछले 24 घंटे में लखनऊ में 3,004, कानपुर नगर में 1,206, वाराणसी में 966, प्रयागराज में 437, मेरठ में 1,732, गौतम बुद्ध नगर में 1,703, गोरखपुर में 1,055, गाजियाबाद में 1,373 और मुरादाबाद में 841 संक्रमित मरीजों की पुष्टि हुई है.

LIVE TV