News in Brief

मुंबई/कोलकाता: बंगाल में चुनावी नतीजों के बाद सियासी हिंसा के बीच ममता बनर्जी ने तीसरी बार सूबे के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ले ली है. मुख्यमंत्री बनते ही ममता ने कहा कि अब तक आचार संहिता की वजह से कानून व्यवस्था चुनाव आयोग देख रहा था लेकिन अब हिंसा को रोकना हमारी प्रथामिकता है.

इस बीच कोलकात समेत देश के कई राज्यों में बंगाल हिंसा के खिलाफ बीजेपी प्रदर्शन कर रही है. मुंबई में भी बीजेपी कार्यकर्ताओं ने धरना देकर टीएमसी का विरोध जताया और अपने कार्यकर्ताओं की हत्या का आरोप लगाकर ममत बनर्जी पर निशाना साधा. पार्टी विधायक आशीष शेलार ने इस दौरान ममता को खूनी बताया है.

बीजेपी विधायक अशीष शेलार ने कहा कि बंगाल में जो हिंसा का तांडव चल रहा है उसके विरोध में पूरे भारत में विरोध हो रहा है. साथ ही उन्होंने कहा कि बंगाल में बीजेपी के कार्यकर्ताओं और हिन्दुओं पर हमले हो रहे हैं. साथ ही बीजेपी के वोटर्स और टीएमसी के विरोधियों के साथ हिंसा हो रही है.

उन्होंने कहा कि बंगाल की हिंसा पर कांग्रेस और वामपंथी मुंह पर पट्टी बांध कर बैठे हैं. शेलार ने कहा कि हमारा संकल्प संविधान की रक्षा करना है. उन्होंने कहा कि सोनार बंगाल कायम होने तक हम इस आंदोलन को जारी रखेंगे.
 
उधर, बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा भी बंगाल के दौरे पर हैं. उन्होंने कोलकाता में बीजेपी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि जिस पर दूसरों की रक्षा की जिम्मेदारी है वही लोग इस हिंसा के लिए जिम्मेदार हैं. उन्होंने कहा कि वह शपथ ले सकते हैं लेकिन हम भी बंगाल से सियासी हिंसा के खात्मे की शपथ लेते हैं.