Jaipur: कोरोना महामारी के बढ़ते प्रकोप के बीच ऑक्सीजन की भारी कमी देखने को मिल रही है. इसमें अपना सहयोग करते हुए राज्य के शिक्षा विभाग ने सरकारी स्कूलों की प्रयोगशालाओं में रखे हुए ऑक्सीजन सिलेंडर मरीजों के उपचार में काम लेने का फैसला किया है.

इस लिहाज से तमाम जिला शिक्षा अधिकारियों और स्कूलों को निर्देश दिए गए थे कि वह अपनी उपलब्धता सरकार को बताएं. इसमें यह सामने आया है कि वेबसाइट शिक्षा की योजना के तहत राज्य में हेल्थ केयर ट्रेड संचालित 332 स्कूलों में स्थापित प्रयोगशालाओं में ऑक्सीजन गैस सिलेंडर उपलब्ध है.

ये भी पढ़ें-Corona में ड्यूटी दे रहे शिक्षकों के साथ विसंगति, पनपने लगी असंतोष की भावना

यहां मौजूद 393 ऑक्सीजन सिलेंडर में से 167 सिलेंडर भरे हुए हैं जबकि 220 सिलेंडर खाली हैं. इसमें 376 छोटे और 17 बड़े सिलेंडर शामिल हैं. मौजूदा कोरोना संकट को देखते हुए अस्पतालों में ऑक्सीजन गैस सिलेंडर की मांग के मद्देनजर स्कूल की प्रयोगशालाओं में उपलब्ध ऑक्सीजन गैस सिलेंडरों को जिला प्रशासन से समन्वय करके उपलब्ध कराया जाएगा. 

इसके लिए राज्य परियोजना निदेशक ने सभी मुख्य जिला शिक्षा अधिकारियों को निर्देश जारी किए हैं. ऑक्सीजन गैस सिलेंडर का रिकॉर्ड संधारण कर की गई कार्यवाही को परिषद को अवगत कराने के लिए भी कहा गया है. इसके साथ ही शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने भी सोशल मीडिया पर ट्वीट करके कहा है कि कोरोना की इस महामारी के बीच सरकारी स्कूलों की प्रयोगशालाओं में रखे हुए ऑक्सीजन गैस सिलेंडर अस्पतालों को दिए जाएंगे.

ये भी पढ़ें-Covid-19 : जागरूकता का सबसे दिलचस्प अभियान, राजस्थानी भाषा में स्लोगन तैयार