चन्द्रशेखर सोलंकी/रतलाम: कोरोना के इस दौर में जब किसी जरूरतमंद की मदद के लिए भी कई हाथ आगे आ रहे हैं. तो वहीं दूसरी तरफ भाई-भाई के खून का प्यासा हो रहा है.रिश्तों को तार-तार कर देने वाला ऐसा ही एक मामला मध्य प्रदेश के रतलाम जिले से सामने आया है. जहां एक भाई ने अपने छोटे भाई को मौत के घाट उतार दिया. हैरानी की बात ये है कि मर्डर में हत्यारे का नाबालिग बेटा भी शामिल है. 

ये भी पढ़ें-शर्मसार करने वाली हकीकत: जब नहीं मिली एंबुलेंस, खाट पर 25 किमी तक बेटी के शव को लेकर पहुंचा पिता

क्यों हुआ भाई ही भाई के खून का प्यासा
जानकारी के मुताबिक दोनों भाईयों के बीच मामूली बात को लेकर विवाद हुआ था. दरअसल बड़ा भाई सतवंत गुजरात में मजदूरी करता है. वह  3 महीने बाद लौटा ही अपने गांव लौटा था. उसके लौटने के एक दिन बाद ही उसने छोटे भाई सुमित से उसकी बाइक मांगी. सुमित ने बाइक देने से इनकार कर दिया और दोनों में कहासुनी हो गई.

ऐसे उतारा मौत के घाट
परिवार के अन्य लोगों ने दोनों भाईयों को शांत करवाकर विवाद शांत करवाया. लेकिन देर रात बड़ा भाई सतवंत शराब के नशे में घर आया और घर से कुछ दूर खुले में खाट पर सो रहे छोटे भाई सुमित से मारपीट शुरू कर दी. इस दौरान सतवंत का नाबालिग बेटा भी पिता के साथ मारपीट में शामिल हो गया. सतवंत ने पहले सुमित पर पत्थर से हमला किया और जब वह बुरी तरह घायल हो गया तो उसका गला दबाकर उसे मार दिया. घटना को अंजाम देने के बाद सतवंत अपने नाबालिग बेटे के साथ गांव से फरार हो गया.

ये भी पढ़ें-एक मां ऐसी भी! बच्चों से दूर रहकर निभा रही अपना फर्ज, महीनेभर से कर रही कोरोना संक्रमितों की सेवा

मरते वक्त भी करता रहा अपने बच्चों की चिंता
परिजनों ने बताया कि दोनों भाइयों में पहले से ही अनबन रहती थी. फिर बाइक मांगने को लेकर दोनों में विवाद हो गया. उनका कहना है कि जब रात में सतवंत ने सुमित पर हमला किया तो उस समय सुमित चिल्लाया और अपने बच्चों को हत्यारे से बचाने को कहता रहा. परिजनों का कहना है कि जब तक वह उसके बच्चों को सुरक्षित स्थान पर छोड़कर आए, सतवंत हत्या कर फरार हो चुका था. 

इधर पुलिस सूचना पर घटना स्थल पहुंची और शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भिजवाया. पुलिस का कहना है कि हत्यारे भाई की तलाश जारी है और मामले की जांच की जा रही है.

Watch LIVE TV-