News in Brief

नई दिल्ली: ऑक्सीजन कंसंट्रेटर (Oxygen Concentrator) की कालाबाजारी के आरोपी व्यवसायी नवनीत कालरा (Navneet Kalra) को अदालत से राहत नहीं मिली है. दिल्ली की साकेत कोर्ट ने कालरा को अंतरिम राहत देने से इनकार करते हुए कहा है कि मामले की सुनवाई मंगलवार (11 मई) को की जाएगी. कालरा ने पुलिस की कार्रवाई से बचने के लिए अग्रिम जमानत याचिका दायर की है. कोर्ट ने इस संबंध में दिल्ली पुलिस से जवाब मांगा है. 

Police लगातार दे रही दबिश

वहीं, दिल्ली पुलिस ने कारोबारी नवनीत कालरा के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी कर दिया गया है. बता दें कि पुलिस ने होटलों और रेस्टोरेंट से 544 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर बरामद किए थे. इनमें से 105 मशहूर रेस्टोरेंट चाचा खान और टाउन हॉल से जब्त किए गए थे, जिनका मालिक नवनीत कालरा है. क्राइम ब्रांच की कई टीमें उसकी तलाश में दिल्ली, यूपी और उत्तराखंड के 20 से अधिक स्थानों पर दबिश दे चुकी हैं. 

ये भी पढ़ें -सरकार ने Vaccination Policy पर किया अपना बचाव, कहा, ‘सब कुछ ठीक, Supreme Court के हस्तक्षेप की जरूरत नहीं’

Foreign भागने की आशंका

नवनीत कालरा के विदेश भागने के इनपुट के बाद पुलिस ने लुकआउट नोटिस जारी किया है. पुलिस का कहना है कि कालरा को जल्द से जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा. उसकी तलाश में लगातार छापेमारी जारी है. इस बीच, दिल्ली पुलिस ने गुरुग्राम के सेक्टर 54 स्थित ऑर्किड अपार्टमेंट में रहने वाले गौरव खन्ना (47) को गिरफ्तार किया है. खन्ना मैट्रिक्स सेल्युलर सर्विसेज लिमिटेड के सीईओ हैं, जो उपकरण आयात करने वाली कंपनियों में से एक है.

Friend के साथ की कालाबाजारी

पुलिस का दावा है कि नवनीत कालरा ने अपने दोस्त गगन दुग्गल के साथ मिलकर ऑक्सीजन कंसंट्रेटर मंगवाए और लोगों को ज्यादा दाम में बेचा. पुलिस को शक है कि कालरा और दुग्गल अब तक बड़ी संख्या में ऑक्सीजन कंसंट्रेट बेच चुके हैं. वहीं, कालरा ने अपने फोन बंद कर लिए हैं, इसलिए उस तक पहुंचना मुश्किल हो गया है. वो अपने परिवार को भी लेकर कहीं चला गया है.